Breaking News

कायस्थो के सबसे बड़े संगठन के सुशील कुमार सिन्हा विजयी घोषित किए गए

आमोद श्रीवास्तव
प्रयागराज। देश के सबसे पुराने और एशिया के सबसे बड़े ट्रस्ट कायस्थ पाठशाला केपी ट्रस्ट का चुनाव गहमागहमी के बीच सम्पन्न हुआ। जिसमें सुशील कुमार सिन्हा विजय घोषित किए गए। कायस्थ पाठशाला न्यास के अध्यक्ष पद पर मुख्य रूप से डॉ सुशील कुमार सिन्हा और राघवेन्द्र नाथ सिंह के बीच जबरदस्त मुकाबला देखने को मिला। शाम पांच बजे तक कायस्थ पाठशाला न्यास केपी ट्रस्ट प्रयागराज के इस चुनाव में कुल 5563 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर अध्यक्ष पद व कार्यकारिणी सदस्यों की किस्मत मतपेटी में बन्द कर दिया। कायस्थ पाठशाला न्यास केपी ट्रस्ट प्रयागराज के इस चुनाव में कायस्थ समाज की बड़ी बड़ी हस्तियां शामिल हुईं। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ मुकेश श्रीवास्तव, राष्ट्रीय महामंत्री विश्ववमोहन कुलश्रेष्ठ, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, मुकुल श्रीवास्तव, प्रदेश अध्यक्ष डॉ इन्द्रसेन श्रीवास्तव, प्रदेश महामंत्री श्याम चन्द्र श्रीवास्तव, प्रदेश कोषाध्यक्ष आमोद श्रीवास्तव, युवा प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमित श्रीवास्तव, गोपीकृष्ण श्रीवास्तव सहित अनेक लोगों ने अपने मतों का प्रयोग किया। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा उप्र के प्रदेश अध्यक्ष डॉ इन्द्रसेन श्रीवास्तव ने कहा कि एशिया के सबसे बड़े ट्रस्ट परिवारवाद के बीच फंस गया है। एक ही परिवार ट्रस्ट को अपनी सम्पत्ति समझकर दुरुपयोग कर रहा।आज परिवारवाद का परिवर्तन करने हमलोगों ने डा सुशील कुमार सिन्हा का समर्थन किया है। हम सबका प्रयास है कि अखिल भारतीय कायस्थ महासभा या ट्रस्ट कायस्थ समाज को मुख्य धारा में लाने का कार्य करे। जिससे देश और समाज का भला हो। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा का प्रत्येक कार्यकर्ता पदाधिकारी डॉ सुशील सिन्हा के साथ मिलकर काम किया है। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा प्रदेश अध्यक्ष डॉ इन्द्रसेन श्रीवास्तव ने सुशील कुमार सिन्हा विजय घोषित होने पर उनको हार्दिक शुभकामनाएं दी तथा आने वाले समय में के पी ट्रस्ट में अमूल्य -चूल परिवर्तन कर कायस्थ परिवारों को मजबूत करेंगे ।

Check Also

माफिया अतीक के शूटर अब्दुल कवि की ससुराल पहुंची पुलिस,कई असलहा बरामद

यूपी के प्रयागराज में हुए राजू पाल हत्या कांड के फरार आरोपी अतीक अहमद के …

Leave a Reply

Your email address will not be published.