Breaking News

मुख्यमंत्री ने गोरखपुर में 343 करोड़ रु0 की 76 विकास परियोजनाओं का किया शिलान्यास एवं लोकार्पण

लखनऊ : 17 सितम्बर, 2023

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वकर्मा जयंती के पावन अवसर पर आज जनपद गोरखपुर में मानसरोवर मंदिर के पास रामलीला मैदान में आयोजित कार्यक्रम में मल्टी लेवल पार्किंग, गौरव संग्रहालय, सड़क निर्माण, सीवर लाईन निर्माण आदि से सम्बन्धित 343 करोड़ रुपये लागत की 76 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र, चाभी तथा चेक प्रदान किये।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज प्रदेश विकास की नई बुलंदियों को छू रहा है। जनपद गोरखपुर भी विकास की नई उचांईयों के साथ अपनी पहचान बना रहा है। जनपद में आज लोकार्पित एवं शिलान्यास की गई विकास परियोजनाओं में सड़क व जल निकासी की परियोजना, गोरखपुर की ऐतिहासिक और पौराणिक परम्परा से जुड़े हुए गौरव संग्रहालय की स्थापना के साथ गोरखपुर के बन्धु सिंह पार्क में मल्टीलेवल पार्किंग का कार्य भी शामिल है। इन परियोजनाओं में गोरखुपर में जलजनित व विषाणुजनित बीमारियों से बचाव हेतु सीवर ट्रीटमेंट प्लान्ट, सीवर लाईन एवं अन्य तमाम परियोजनाएं भी सम्मिलित हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से 06 वर्ष पहले उत्तर प्रदेश तथा गोरखपुर की पहचान और विकास के बारे में धारणा अच्छी नहीं थी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन में विगत साढ़े 09 वर्षों में देश और प्रदेश ने एक नई प्रगति की है। देश ने वैश्विक मंच पर एक नई प्रतिष्ठा बनाई है। विगत 06 वर्ष में उत्तर प्रदेश ने भी देश में तथा गोरखपुर ने उत्तर प्रदेश में अपनी एक नई पहचान बनाई है। यह पहचान विकास, सुशासन तथा बेहतर कानून व्यवस्था की है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि दशकों से लम्बित परियोजनायें अब पूर्ण हो रही हैं। यह परियोजनाएं हाई-वे, रेलवे, फ्लाईओवर, सेतुओं की हैं। गोरखपुर का बंद खाद कारखाना फिर से आरम्भ हो गया है। रामगढ़ताल गोरखपुर की पहचान बन चुका है। यह दुनिया को पर्यटन के लिए अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। अब गोरखपुर कह सकता है कि हमारे पास भी जम्मू-कश्मीर जैसा ताल है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि गोरखपुर में एम्स तथा बी0आर0डी0 मेडिकल कॉलेज जैसे चिकित्सा संस्थान हैं, जो पूर्वी उत्तर प्रदेश ही नहीं, बल्कि बिहार और नेपाल के लोगों के लिए भी स्वास्थ्य का प्रमुख केन्द्र बन चुके हैं। आज गोरखपुर से 14 शहरों के लिए वायु सेवा भी संचालित हो रही है। 06 वर्ष पहले इस मैदान पर भू-माफियाओं का कब्जा था, परन्तु आज यहां पर राज्य सरकार के प्रयास से एक भव्य रामलीला मैदान का निर्माण हुआ है। आज गोरखपुर में रामलीला के बेहतरीन मंच के रूप में दो मैदान उपलब्ध हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि स्पोर्ट्स कॉलेज के साथ ही स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स भी यहां पर है। गोरखपुर में बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों का कायाकल्प गोरखपुर विकास प्राधिकरण और नगर निगम द्वारा किया जा रहा है। गोरखपुर के साथ प्रदेश के सभी बेसिक शिक्षा स्कूलों की कक्षाओं को ऑपरेशन कायाकल्प के माध्यम से सुदृढ़ अवसंरचना के माध्यम से स्मार्ट बनाया जा रहा है। गोरखपुर के हर इण्टर कॉलेज में स्मार्ट क्लासेज, डिजिटल लाईब्रेरी बनाने का कार्य भी युद्ध स्तर चल रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज गोरखपुर अपनी नई पहचान बना रहा है। अब गोरखपुर में 04 विश्वविद्यालय हैं। नये उद्योग, नये निवेश के केन्द्र बन रहे हैं। उनके (मुख्यमंत्री जी) गोरखपुर आगमन पर प्रायः हर बार गीडा क्षेत्र में किसी न किसी उद्योग का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया जाता है, जिनसे 2,000 से 2,500 लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होते हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में नाईलेट संस्था, जो कभी बंद थी, अब उसको भी आगे बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। पिपराइच में चीनी मिल का पुनः संचालन हो रहा है। सहजनवां में अटल आवासीय विद्यालय का निर्माण हो गया है, जिसका 23 सितम्बर, 2023 को प्रधानमंत्री जी द्वारा उद्घाटन किया जायेगा। खाद कारखाना परिसर में सैनिक स्कूल के निर्माण की कार्यवाही युद्ध स्तर पर चल रही है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि डबल इंजन की सरकार विकास परियोजनाओं के लिए पैसा देने में कोई कोताही नही बरत रही है। गरीबों को आवास, शौचालय, रसोई गैस तथा आयुष्मान कार्ड की सुविधा प्रदान की जा रही है। व्यापारियों के लिए व्यापारी कल्याण बोर्ड गठित करते हुए 10 लाख रुपये का सुरक्षा बीमा कवर प्रदान किया जा रहा है। छोटे उद्यमियों के लिए भी 05 लाख रुपये का सुरक्षा बीमा कवर देने की योजना संचालित है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार विकास तथा गरीब कल्याण हेतु समर्पित है, किन्तु नागरिकों का भी कर्तव्य बनता है कि अपने शहर, कस्बे तथा नगर को स्वच्छ व सुंदर बनाये रखें। मोहल्लों में कहीं भी कूड़ा सड़क या नाली पर न डालें, बल्कि डस्टबिन में ही डालें, अव्यवस्था नहीं फैलने दें। आम नागरिक भी अगर अपने कर्तव्यों के निर्वहन में यह भाव रखे कि सरकारी सम्पत्ति का नुकसान नहीं करेंगे, सार्वजनिक सम्पत्ति का संरक्षण करेंगे तो वे लोग जो गोरखपुर तथा प्रदेश के विकास में अवरोधक बनकर विकास की परियोजनाओं को रोकना चाहते हैं, स्वतः बेनकाब होते दिखाई देंगे। उन सबको बेनकाब करने के लिए आज सरकार पूरी मजबूती के साथ कार्यवाही कर रही है।

Check Also

‘माई भारत पोर्टल’ के माध्यम से स्वच्छता सम्बन्धी गतिविधियों का शुभारम्भ

आगामी 14 जनवरी से प्रदेशव्यापी स्वच्छता अभियान प्रदेश सरकार शुरू करने जा रही है। इस …

Leave a Reply

Your email address will not be published.